भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ धोरा धोरां में कांटा बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ धोरा धोरां में कांटा बाबा
ऊपर सूं मारै लू चांटा बाबा

बठै तो हुवै बातां खुली हवा री
अठै अमूजै म्हांरा घांटा बाबा

बरसां रा बरस हुया तपां-बळां म्हैं
अब तो नांखो थोड़ा छांटा बाबा

एक हेलै सागै एक होवै कुण
गांव-गळी है बीसूं फांटा बाबा

सागै आळा कठै सूं कठै पूग्या
म्हांनै कोनी आवै आंटा बाबा