भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ फ़रंगी / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस कविता के प्रकाशित होने पर इस के लेखक पं० मेला राम वफ़ा पर भारत की अंग्रेज़ सरकार ने मुक़द्दमा चलाया जिस में वफ़ा साहिब को दो साल क़ैद सख़्त की सज़ा हुई-

ऐ फ़रंगी कभी सोचा है ये दिल में तू ने
और ये सोच के कुछ तुझ को हया भी आई

ना-मुबारक था बहुत हिन्द में आना तेरा
क़हत आया तेरे हम-राह वबा भी आई

तेरे क़दमों से लगी आई ग़ुलामी ज़ालिम
साथ ही उस के ग़रीबों की बला भी आई

बन गई बाद-ए-सुमूम आह असर से तेरे
इस चमन में जो कभी बाद-ए-सबा भी आई

तेरी कल्चर में चमक तो है मगर इस में नज़र
कभी कुछ रोशनी-ए-सिद्क़-ओ-सफ़ा भी आई

यही कल्चर सबब-ए-पसती-ए-अख़्लाक़ हुई
हिंदियों में इसी कल्चर से रिया भी आई

जा-ए-शुक्र इस में शिकायात तिरी बे-दाद की थी
ग़म-नसीबों को अगर याद-ए-ख़ुदा भी आई

तेरी संगीनें चमकने लगीं सड़कों पे जूँ-ही
लब पे मज़लूमों के फ़रियाद ज़रा भी आई

दर्द-ए-इफ़्लास का नेज़ों से किया तो ने इलाज
मौत बन कर तेरे हाथों में शिफ़ा भी आई

इस रविश पर कभी ऐ बानी-ए-बे-दाद तुझे
दिल के अंदर से मलामत की सदा भी आई।