भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ मेरे हम सफर /छबीली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ मेरे हमसफ़र

ले रोक अपनी नज़र

ना देख इस कदर

ये दिल है बड़ा बेसबर


चांद तारों से पूछ ले

या किनारो से पूछ ले

दिल के मारो से पूछ ले

क्या हो रहा है असर


ले रोक अपनी नज़र

ना देख इस कदर

ये दिल है बड़ा बेसबर


मुस्कुराती है चांदनी

छा जाती है ख़ामोशी

गुनगुनाती है ज़िंदगी

ऐसे में हो कैसे गुज़र


ले रोक अपनी नज़र

ना देख इस कदर

ये दिल है बड़ा बेसबर