भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ऐ रोसियह रक़ीब तो डर मेरी आह से / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ रोसियह रक़ीब तो डर मेरी आह से
बिजली को होती है रंग-ए-सियाह से

 हम आदमी हैं वस्ल मयस्सर नहीं कभी
होता है ग़म नज़ार-ए-मरदम गयाह से

आज़ा तमाम घर गए हैं ग़म से इस क़दर
मस्ल-ए-हबाब सर है हमारा कलाह से

मुझ नातवां से हुस्न दोबाला है यार का
दोना फ़रोग़ आग का होता है काह से

हर एक अपनी आँखों में दे मुझको क्या जगह
सुरमा क्या है यार ने बर्क-ए-निगाह से

कब आऊंगा नज़र न मिलेगी जो तेरी आँख
मैं नातवां असीर हूं तार-ए-निगाह से

रोशन है उसमें आरिज़-ए-ताबां तो उस में दाग़
क्या कम शब-ए-फिराक़ है जुल्फ़-ए-सियाह से

तर दामिनी है आब-ए-ख़जालत से ज़ाहिदा
‘नासिख़’ को अफ़फआल है अपने गुनाह से