भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओक्ताविओ पाज़ / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन परिचय

ऑक्टेवियो पाज़ का जन्म 31 मार्च, 1914 को मेक्सिको सिटी में एक स्पेनिश परिवार में हुआ। उनकी शिक्षा नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ मेक्सिको में हुई, जहाँ उन्होंने कानून और साहित्य में उपाधियाँ प्राप्त कीं। कवि पाब्लो नेरुदा के प्रोत्साहन से पाज़ ने किशोरावस्था में ही काव्य को अपना कैरियर बनाया और आधुनिक विचारों की साहित्यिक पत्रिका बरन्दाल(Barandal) की शुरूआत की।

लेखन, जीवन और साहित्य

1933 में उनकी कवितओं की पहली पुस्तक लूना सिल्वेस्त्रे (वाइल्ड मून) प्रकाशित हुई।

ऑक्टेवियो पाज़ की जवानी अमरीका और स्पेन में गुज़री जहाँ वे साहित्य के आधुनिकतावादी और अतियथार्थवादी आन्दोलनों से प्रभावित हुए। एगुइला ओसोल (ईगल ऑर सन, 1951) के नाम से उनकी गद्य कविताओं के क्रम में मेक्सिको के अतीत, वर्तमान और भविष्य का दूरदर्शितापूर्ण चित्रण है।

पाज़ की लम्बी कविता पीड्रा डि सोल (सनस्टोन, 1957) की संरचना का आधार ऐज़टेक कैलेण्डर है। यह कविता 584 लकीरों में बिना पूर्णविराम के (एक ही वाक्य में) है। ऐज़टेक कैलेण्डर में भी एक वर्ष में 584 दिन होते हैं। इस कविता में मेक्सिको का सामाजिक-सांस्कृतिक विश्लेषण है। 1950 में एल लेबेरिन्टो डि ला सोलडैड ( द लैब्रियन्थ ऑफ सॉलिट्यूड) के प्रकाशन के बाद पाज़ को विश्व की एक प्रमुख साहित्यिक हस्ती के रूप में मान्यता मिली।

1962 में पाज़ को भारत में मेक्सिको का राजदूत नियुक्त किया गया। छ्ह वर्ष बाद मेक्सिको सिटी में विद्यार्थी-प्रदर्शनकारियों की सरकारी सुरक्षा बलों द्वारा की गई हत्याओं के विरोध में उन्होंने राजदूत पद से इस्तीफा दे दिया। उनकी बाद की रचनाएँ गहन बुद्धिमत्तापूर्ण और जटिलता लिए हुए हैं। ये रचनाएँ दर्शन, धर्म, कला,राजनीति और व्यष्टिक भूमिका की गहन पड़ताल करती हैं। पाज़ सवाल करते हैं — जीवन से कविता बनाने की अपेक्षा क्या जीवन को कविता में बदलना बेहतर नहीं है?...और क्यों न कविता का प्रमुख उद्देश्य कविताओं की रचना की बजाय काव्यात्मक पलों का सृजन हो?

पाज़ के निबन्ध संग्रहों में संस्कृति, भाषा विज्ञान, साहित्य-शास्त्र, इतिहास और राजनीति का समावेश मौलिक, विद्वतापूर्ण और अद्वितीय है। कार्लोस फ्वेन्टेस के अनुसार पाज़ की कविताएँ ’हमारी चली आ रही हठधर्मिताओं की सीमाओं से परे समरसता और सत्य के लिए सम्भावनाओं की बहुलता से सम्पन्न हैं।

पुरस्कार और सम्मान

पाज़ को 1981 में सर्वान्तीस पुरस्कार और 1982 में न्यूसटैड्ट पुरस्कार मिला।

1990 में उन्हें साहित्य के नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

19 अप्रैल, 1998 को चौरासी वर्ष की उम्र में पाज़ का देहान्त हुआ।

क़िताबें

काव्य लूना सिल्वेस्त्रे (1933); बजा टू क्लारा सोम्ब्रा वाई ओट्‌रोस पोयमास (1937); एंट्रे ला पीड्रा वाई फ्लोर (1941); एगुइला ओसोल (1951); पीड्रा डि सोल (1957);सलामान्दर (1962); सेलेक्टेड पोयम्स (1963); पसादो एन क्लेरो (1975); वुएल्टा (1976); कलेक्टेड पोयम्स ऑफ ओक्टेवियो पाज़, 1957-1987 (1987)।

गद्य एल लेबेरिन्टो डि ला सोलेदाद (1950); कोरिएनटी अल्टर्ना (1967); पोस्दाता (1970); टीम्पो न्यू ब्लेडो (1984); ला ओट्रा वोज़ (1990)।

निबन्ध एल आर्को वाई ला लीरा (1956); लास हिजोस डेल लिमो (1974)।