भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओळंग आयी तट री डोळी झील / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओळंग आयी तट री डोळी झील
जोबन बावळी देखो भोळी झील

खुद भीजै अर म्हनै ई भिजावै नित
खेलै म्हारै सागै होळी झील

होळै-सी कहतां ई बाथां भेटी
कूड़ा बै जका कैवै बोळी झील

दिनूगै-सिंझ्या सजी-धजी दीसै
पै’र सोनालिया साडी-चोळी झील

ऐ’स नीं मिल्यो बिरखा रो सनीणो
धौळां सूं धुप-धुप हुई धौळी झील