भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ,-बाबा थारी बकरयां बिदाम खावै रे / मोहम्मद सद्दीक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ,-बाबा थारी बकरयां बिदाम खावै रे ।
ऐ-चरगी म्हारो खेत, सरे आम खावै रे ॥
बाबा थारी बकरयां, बिदाम खावै रे ।।

कीडी़नगरै नगर बसायो,ढोल दियो ढमकाय ।
राजा हुकुम दियो हाकम नै,घर-घर लागी लाय ॥
धरम-करम रा कमधजिया,हराम खावै रे.....
बाबा थारी बकरयां, बिदाम खावै रे ।।

भूखी भेड भचीडा़ खासी,चोर भखारी भरसी रे ।
गोदा चरसी खडै़ खेत नै,गाय अखोरा करसी रे ॥
मिनख-=मारणी काळ चिड़यां,गोदाम खावै रे ....
बाबा थारी बकरयां, बिदाम खावै रे ॥

मन माटी रा,तन सोनै रा,मिनखां-बरणी सार ।
चोपड़ रमणी जूण मिनख री,गई मिनख नै हार ॥
गांव-रुखाळा बासी मुंडै,राम खवै रे......
बाबा थारी बकरयां, बिदाम खावै रे ।।

सुण,धण,बात कात ली पूणीं,डोरै नै मत ताण ।
न्याय रो माथो मत कर नीचो,देख ताकडी़ काण ॥
सांची बात बतावणियां तो,डा’म खावै र ......
बाबा थारी बकरयां, बिदाम खावै रे ।।