भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ अदीतवार : बो अदीतवार / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शनिवार नै कित्ता राजी हुवता आपां
कै काल अदीतवार है
मतलब तिंवार है
मतलब मान-मनवार है
आवतो कोई बेली
मन करण लागतो थड़ी
जाणै बळतै धान माथै
इमरत बूंदां पड़ी
पुसब-सा महकण लागता चौफेर…

शनिवार नै कित्ता राजी हुवता आपां
कै काल अदीतवार है
मतलब दिनूगै री चाय सूं लेय र
               देर रात तांई
चितरामां री भरमार है
बुद्धू बक्सै री बाथां में ई सार है
अबै आयोड़ै कनै
मरियै मन सूं बैठां जणा
गिंधावती लाशां लखावै चौफेर…