भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ बाबू जी मेरी कष्ट मजूरी दे दे / दयाचंद मायना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ बाबू जी मेरी कष्ट मजूरी दे दे
बटवे मैं तै काढ़ नोट, बख्सीस जरूरी दे दे...टेक

हमनै भी अस्टेशन पै, कुलियों म्हं जीवन खो दिया
म्हारी हिम्मत देखै नै, तू पैसे देता रो दिया
तेरा कई मण पक्का बोझ ढो दिया,
मेहनत पूरी दे दे...

मन का साज बजा देंगे, हम खूंटी मरोड़ रेडियो मर्फी
तेरी दया तै खा लेंगे आज हम लाड्डू, पेड़े और बर्फी
काढ़ जेब तै मोहर, असरफी
भूरी-भूरी दे दे...

टाटा, बिरला, डालमिया तै, हम समझैं सैं बाध तनै
चोवे के मैं राखणी सै, इन गरीबां की फरियाद तनै
हाम रोज करैंगे याद तनै
चीज मसहूरी दे दे...

माणस नै तै समझाले, किस तरिया समझावै जिंद नै
थारे बिना और कूण काटै, गरीबां आले दुख के फंद नै
सतगुरु मुंशी ‘दयाचन्द’ नै
ज्ञान तजूरी दे दे...