भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ओ री निंदिया आना तू / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ री निंदिया आना तू, दूध बताशे लाना तू
मुनुओं को सुलाना तू, गुनगुन गीत सुनाना तू
मीठी नींद सुलाना तू, ओ री निंदिया आना तू

रात की रानी महक रही, रजनीगंधा फूल रही
बेला भी अब फूलेगा, देख चमेली महक रही
पायल पहन के आना, तू छम-छम करती आना तू
ओरी निंदिया आना तू