भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औकात / सूर्यदेव सिबोरत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राई जैसी
तेरी एक मीठी बात पर
मैं
उम्मीदों का पर्वत
खड़ा करता रहा ।

एक फ्लैश जैसी
तेरी एक मुस्कान की
एक अदा पर
मैंने जीवन के
न जाने कितने बरस
लुटा दिये ।

यह जाने बग़ैर
कि बात तेरी
खो गई हवा में
बहुत पहले
एक गर्जन बनकर ।

मुस्कान
छुप गई जाकर
घने-काले
बादलों के बीच ।
और … और
बादल-बिजली बनकर दोनों
गिर पड़ी
मेरे दो टके के
अंगूठा छाप
अस्तित्व पर ।