भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत-2 / किरण येले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: किरण येले  » औरत-2

शाम के वक़्त
औरत
दीया लगाती है
भगवान की तस्वीर के सामने
हाथ जोड़ती है
और बुदबुदाती है
होंठों में स्थित अँधेरे को
अपने भीतर खींच लेती है ।

मूल मराठी से अनुवाद : सूर्यनारायण रणसुभे