भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत-4 / किरण येले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: किरण येले  » औरत-4

'प्रत्येक औरत अलग होती है
छाती और पीठ में'
ब्लाउज सीते समय माँ कहती
सभी औरतें नहीं सी जा सकतीं
एक ही नाप में ।

सिलाई अगर उधेड़ी गई
तो शील उघड़ जाने का पाप
पति की ओर से
अथवा
देखनेवालों की ओर से ।


मूल मराठी से अनुवाद : सूर्यनारायण रणसुभे