भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत-5 / किरण येले

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: किरण येले  » औरत-5

समझ नहीं आता कैसे
औरतें जागती हैं सवेरे सबसे पहले,
उठती हैं
रसोईघर में जाती हैं,
और चूल्हा, स्टोव या गैस सुलगाती हैं ।
फिर सूर्य चढ़ते-चढ़ते
बनाती रहती हैं कुछ-कुछ
भीतर ।
और सूर्य मध्य तक आया कि
परोसती हैं सबको ।

दोपहर में
सभी के सो जाने पर
सोती हैं औरतें थोड़ी देर
तब भी औरतें जाग जाती हैं सबसे पहले,
रसोईघर में जाती हैं
और चूल्हा, स्टोव या गैस सुलगाती हैं ।
फिर सूर्य डूबने तक
बनाती रहती हैं कुछ-कुछ
भीतर ।
और परोसती रहती हैं सबको
अँधेरा फैलने पर ।

मैं हमेशा चौंकता हूँ
जब यह विचार आता है कि
औरतें
सचमुच क्या सुलगाती होंगी
भीतर
और क्या परोसती होंगी
थाली में ।

मूल मराठी से अनुवाद : सूर्यनारायण रणसुभे