भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत का जिस्म / पाब्लो नेरूदा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

औरत का जिस्म, गोरा उभार, गोरी जाँघें,
एक धरती-सी दिखती हो तुम, पस्त पड़ी हुई ।
मेरा खुरदरा किसान का जिस्म जोतता है तुम्हें
और गहराई से फूट पड़ती है नई नस्ल ।

अकेला था एक सुरँग-सा. कतराते थे परिन्दे मुझसे,
हमले के अन्दाज़ में ढक लेती थी काली रात ।
बचने की ख़ातिर बनाया हथियार तुम्हें,
धनुष में तीर, गुलेल में ढेले की मानिन्द ।

पर आई बदले की घड़ी, और हो गया प्यार मुझे ।
एक जिस्म नर्म खाल, घनी काई और गाढ़े दूध का ।
ओ शराब की प्यालियों-सा सीना ! ओ खोई हुई आँखें !
गुलाब-सा जघन ! उदास और धीमी तुम्हारी आवाज़ !

मेरी औरत का जिस्म, तुम्हारी इनायत में रहना है कायम ।
मेरी प्यास, मेरी बेपनाह तमन्ना, मेरी बदलती राहें !
नदी की धार जहाँ बहती रहती है आदिम प्यास
और फिर पस्ती का आलम, और दर्द बेहिसाब ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य