भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

औरत / जमील मज़हरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है तेरे जल्वा-ए-रंगी[1] से उजाली दुनिया
तुझसे आबाद है शाइर की ख़याली दुनिया

नग़्म:-ए-रूहे अमल[2], बू-ए-गुलिस्तान-ए-हयात[3]
गर्मि-ए-बज़्मे जहाँ[4] शमः-ए-शबिस्तान-ए-हयात[5]

तू है मासूम, तिरी सारी अदाएँ मासूम
इन्तहा ये है कि होती है ख़ताएँ मासूम

हुस्न किरदार निहाँ[6] हुस्न तबीयत में[7] तेरे
मय-ए-सर जोश-ओ-वफ़ा शीशः-ए-इस्मत[8] में तेरे

अपने हाथों से ख़ुदा ने है बनाया तुझको
हम कहेंगे दिल-ए-फ़ितरत की तमन्ना तुझको

माहे-कामिल[9] से तड़प, बर्क़ से[10] ग़ैरत माँगी
सीनः-ए-मिहर से[11] थोड़ी-सी हरारत माँगी

रूह[12] फूलों की बनी, जिससे वह ख़ुशबू लेकर
दिल-ए-शाइर के अमानत थे जो आँसू लेकर

गूँधा क़ुदरत ने तिरी शोख़ तबीयत का ख़मीर
और तिरी ख़ाक के ज़र्रों से मुहब्बत का ख़मीर

दहर में[13] मक़सदे-तख़लीक की[14] हामिले[15] है तू
जिसके आगोश में[16] कुलज़म[17] है, वह साहिल[18] है तू

चढ़ के परवान तेरी गोद से इन्साँ निकला
तूने जिस फूल को सींचा वह गुलिस्ताँ निकला

मानि-ए-लफ़्ज़-ए-सकूँ राज-ए-मुहब्बत है तू
है ये मुज्मल[19] तेरी तारीफ़ कि औरत है तू

शब्दार्थ
  1. सौन्दर्य आभा से
  2. सदाचारी प्राणों का संगीत
  3. जीवन-वाटिका की सुगंध
  4. संसर के उत्सव की शोभा
  5. जीवन-प्रासाद का दीपक, शमा
  6. गुप्त सदाचार ही तेरा रूप है
  7. सौन्दर्य-सुरुचि तेरे स्वभाव में है
  8. नेकी और भलाई की उमंग रूपी मदिरा ही तेरे शील रूपी पात्र में है
  9. पूर्णिमा के चन्द्र से
  10. बिजली से
  11. सूर्य के सीने से
  12. आत्मा
  13. संसार में
  14. सृष्टि के उद्देश्य के लिए
  15. साधन
  16. गोद में
  17. दरिया, नदी
  18. किनारा
  19. संक्षिप्त, सार रूप में