भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वहाँ भी आग है
कहा किसी ने ।

मैंने पूछा —
सबूत ?

उठता हुआ धुआँ
दिखा दिया उसने ।

क्या उसे
सच में नहीं मालूम
वहाँ
बटोरी गई
गीली-सूखी लकड़ियों से खप रही
एक औरत है —

सदियों से / आग के लिए
धुएँ से लड़ रही
एक औरत ।