भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत / निर्मला सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसमें एक नहीं
चारों दिशाएँ हैं
जब उठती है
तब पूरब,
जब सोती है
तब पश्चिम,
दिन भर खटती चलती है,
उत्तर और दक्षिण-सी,
सृष्टि के इस छोर से
उस छोर तक,
वह और कोई नहीं
तुम्हारी माँ है,
बहिन है,
पत्नी है।