भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औरत / ब्रेसिदा केवास कौब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ब्रेसिदा केवास कौब  » औरत

औरत, तुम्हारी छातियाँ,
आपस में धक्का मुश्ती करतीं
दो सहेलियां हैं,
जब तुम नहाती हो
तुम्हारी आभा का इन्द्रधनुष
तुम्हारे पहनी चमड़ी में फिलहाल स्थगित हो गयी है
तुम्हें एक दफा देखकर
कोई तुम्हारे दुखों को नहीं जान पायेगा
नहीं जान पायेगा कि
नहाने के टब के नीचे
तुम्हारी गाथा की एक ढेड़ पड़ी है
याद है कल नहाते हुए
औचक ही तुम्हारे होठों से
एक सीटी निकली थी
तुम्हारी वह सीटी एक धागा है,
वहां तक के लिए,
जिस खूंटी से तुमने अपनी तमाम
थकानों को टांग दिया है
और हवा
जैसे कोई नटखट बच्चा हो
जो तुम्हें लौंड्री में खींचे लिए जा रहा है
पच्छिम के पेड़ों पर
सूरज एक नवजात बच्चा है
जो अपने गर्म आंसू छितराए जा रहा है
लगातार
अंग्रेजी से अनुवाद : कुणाल सिंह