भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

और निनव में ऐसा / एज़रा पाउंड / एम० एस० पटेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाँ ! मैं कवि हूँ मेरी समाधि पर
कन्याएँ, गुलाब की पत्तियाँ
और आदमी मेंहदी बिखेरेंगे, रात पहले
अपनी काली कृपाण से दिन को समाप्त करती है ।

देखो ! ये वस्तु न मुझे
न तुम्हें बाधा डालने को है,
रिवाज़ के लिए सब पुराना है,
और मैंने यहाँ निनव[1] में देखा है
अनेक गायक मरते और होते हैं
उन अन्धेरे कमरों में कोई आदमी
उन की नीन्द या गीत को कष्ट नहीं देता है ।

अनेकों ने उन गीतों को
मेरी अपेक्षा कपट से, धूर्तात्मा मे गाया है,
और अनेक आगे बढ़ते तो हैं
उनके फूलों की हवा से मेरा यात्रा से थका-मान्दा-सौन्दर्य
फिर भी मैं कवि हूँ, और मेरी समाधि पर
तमाम लोग गुलाब की पत्तियाँ बिखेरेंगे
रात के पहले प्रकाश को
उसकी नीली कृपाण से समाप्त करो ।

’नहीं है राना कि मेरा गीत बहुत ऊपर बजता है
या किसी की अपेक्षा और मधुर-स्वर में
लेकिन मैं यहाँ कवि हूँ,
जो जीवन को तो पीता हूँ
जैसे छोटे लोग शराब को पीते हैं ।’

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : एम० एस० पटेल

शब्दार्थ
  1. टाईग्रिस नदी के किनारे उत्तरी इराक में असीरिया की प्राचीन राजधानी।