भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

औ जग कूड़ो पण साचा थे / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(नानकराम सुतोड़ अर भोजराज छींपा खातर)

औ जग कूड़ो पण साचा थे
मिलसो फेरूं कद पाछा थे

हरख्यो मन जावण द्यो म्हनै
करो क्यूं आज मन काचा थे

मिल परो बिछड़णो तो पड़सी
भूलो क्यूं थांरा वाचा थे

पानो घाल्यो तो आ सुणलो
चालू राखो ऐ खाता थे

मिलया एक सूं एक आछा
पण आछोड़ा में आछा थे