भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

औ दिन मारै आ रात मारै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

औ दिन मारै आ रात मारै
सोचै जिकै नै हर बात मारै

ईं जग सांमै बै पोखै म्हांनै
पण बै ई लुक परा लात मारै

थाळी छोड परो जावै देवर
होळै-सी-क भारी बात मारै

किसै मूडै देवां दोस थांनै
खुद रै हाथां हुई घात मारै

गरीब बाप नै कवांरी छोरी
चार भींतां एक छात मारै