भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कइसे करे किसान / पवन दीवान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करलइ हे भगवान बताओ
कइसे करे किसान
नवा-नदिया धोदका डबरी
खेत सुखाने
जाबले पेरिस दुकाल जी संगी
हमर लेखे संसार सुखागें
परे चिरइया सुनरे भइया
कइसे पार लगावो नइया

पेट म मुसवा गज़ब दंदोरे
लड़का करथे कल्लर कइया
चिरहा फरिया म लड़का रोवे
झेंझरी भइगे लुंगरा
चुंदी लत के मंग उजरगे
अउ चिटि यागे फूंदरा

सक्कर ल चांटा मन खादिन
तेल ल पी दिस मुसवा
मनखे होगे रिंगी चिंगी
नेता होगे कुसवा
दूदी दाना गंहु मिलत हे
थोथना म चटकालौ

हमर कमाई म पटेला मन
चारेच दिन मट कालऔ
कहां ले लसलस चुरे अंगाकर
नइहे चाउर पिसान
करलइ हे भगवान
बताओं कइसे करे किसान