भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कच्ची / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कच्ची हो ! भले कच्ची हो मेरी रचना
मैंने शक्ति, उत्पल को नहीं पढ़ा ।

पढ़े नहीं जीवनानन्द,
रमेन्द्रमुमार ।
विनय मजूमदार,
भास्कर दत्त भी नहीं पढ़े ।

कच्ची हो ! भले कच्ची हो रचना।
इस बार मुँह उठाकर
कह सकता हूँ,
इतने दिन कुछ भी नहीं पढ़ा...

पढ़ता रहा हूँ सिर्फ़ तुम्हें —

जिसने सारे जीवन
एक लाइन भी
कविता नहीं लिखी ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी