भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कण्हपा / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कण्ह, कान्ह, कण्हपा अथवा कृष्णपाद एक ही व्यक्ति के नाम हैं। किंवदंतियों के अनुसार ये मत्स्येन्द्रनाथ और तंतिपा के गुरुभाई थे। घंटापाद के शिष्य कूर्मपाद की संगति में आकर उनके शिष्य बन गए थे। ये कापालिक मतावलंबी थे। इनका समय 10 वीं शताब्दी मानते हैं। डॉ. शहीदुल्ली इन्हें और पीछे 750 वि. में रखते हैं। इनकी जन्मभूमि और कर्मभूमि बिहार-बंगाल में कहीं रही होगी। कण्हपा के दोहे और चर्यापद मिलते हैं। दोहों का विषय बौध्द तंत्र और योग है। सिध्दों की परंपरा में इन्होंने गुह्म पारिभाषिक शब्दों के प्रतीकों का प्रयोग कर तंत्र और योग की बातें कही हैं।