भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कदम-कदम पर ठोकर छै / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कदम-कदम पर ठोकर छै
सबके हाथ में पत्थर छै।

माथा पर आकाश रखी ला
बरसै वाला सागर छै।

सौंसे ठो जग औला-बौला
तहियो चुप-चुप शंकर छै।

जे हाथोॅ मेॅ कलम शोभतै
ऊ हाथोॅ मॅे खंजर छै।

सारस्वते की कहते अपनोॅ
एक कहानी घर-घर छै।