भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कदैई पाणी में गळां भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कदैई पाणी में गळां भायला
कदैई तावडै में बळां भायला

देख तूं बगत आयो इण हद भूंडो
खुद रै सामेळै सूं टळां भायला

है हेताळू पण स्सै छिपला खावै
खुद रो जी तीसूं दिन तळां भायला

धूवों तो हुवणो ई है चौफेर
छाणै दांई धुख धुख बळां भायला

म्हांरी सांस हुई म्हांनै ई भारी
जग सागै खुद नै खुद खळां भायला