भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कबाड़ ख़रीदता हूँ / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रद्दी कबाड़ ख़रीदता हूँ
ख़रीदता हूँ पुराना-धुराना सामान
और
उससे बनाता हूँ सितारे
अपने मन के लिए भोजन
यानी संगीत

छक कर आनन्द उठाता हूँ
संगीत का
इतना कि घूमने लगता है सिर

कविताएँ लिखता हूँ
कविताएँ लिखता हूँ और
ख़रीदता हूँ पुराना माल
फिर कबाड़ देकर
संगीत ख़रीदता हूँ

अगर
सीपियों की किसी बोतल में
तैरती मछली बन जाऊँ
तो कैसा रहेगा?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय