भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कबूतर / चन्द्रप्रकाश जगप्रिय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उड़ै कबूतर फुर-फुर-फुर
देखथैं-देखतै ई काफुर।

एकरा गिरै के कुछ नै डर
आसमान तक एकरोॅ घर।

घोर सलेटी कारोॅ रंग
कोय-कोय लेलेॅ उजरोॅ रंग।

मटर-बूंट सब निगली जाय
उड़ै पुर्र सें, जहाँ बिलाय।

शांति-सुखोॅ के ई संदेश
गुटरू-गूं सुर मद्धिम-टेस।