भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब सीखोगे तुम / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कब सीखोगे तुम...
खाली पन्नों पर लिखी
कविता पढ़ना।
मेरी आवाज का
नकाब हटाकर
अपने कानों को
मेरी खामोशी तक ले जाना
और सुनना
ठहरे पानी में
सदियों पहले डूब चुके
पत्थरों के
गिरने की अनुगूँज को।
कब सीखोगे तुम...
मेरी भटकी आँखों में
अपना पता लगाना।
पाँचों उँगलियों से बँधी
मेरी बन्द मुट्ठी के
ढीलेपन को समझ पाना।
मेरी सधी उड़ान के
कंपन को महसूस करना।
तेज रफ्तार से ढके
मेरे लड़खड़ाते पैरों को देख पाना।
कब सीखोगे तुम...
खौलते पानी में
उठते बुलबुलों से
मेरे हर आवरित झूठ के
तपे हुए
सच को पकड़ पाना।