भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी उठता है दर्दे-दिल, कभी गश हम पे तारी है / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी उठता है दर्दे-दिल, कभी गश हम पे तारी है
कभी कुछ तो कभी कुछ है अजब हालत हमारी है

ग़ज़ब की ना-तवानी है बला की बेक़रारी है
तिरे बीमार पर आज ऐ मसीहा रात भारी है

कोई कुछ कोई कुछ सब अपनी अपनी कहते हैं लेकिन
हमारी मौत का बाइस तिरी ग़फ़लत-शआरी है

सुकूँ-अंजान हो जाता है बढ़ना बेक़रारी का
इलाजे-बेक़रारी इंतिहाए-बेक़रारी है

कोई आफ़त नहीं बढ़ कर परेशां-रोज़गारी से
हज़ार आफ़त की इक आफ़त परेशां-रोज़गारी है

कोई तो हद हो आख़िर ऐ 'वफ़ा' बे-इख़्तियारी की
न जीना इख़्तियारी है न मरना इख़्तियारी है।