भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी देखे हैं? / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कभी देखे हैं?
पतझड़ के बाद
नीला आकाश,
उँगली-पोर थामे
विश्वास भरी
वे कोंपलें-कलियाँ
और कौशल
खिलने-मुस्काने का;
कर रही हैं
संघर्ष प्रतिपल
अवश्य ही ये
खिलकर लिखेंगी
विजय -गाथा
और जीवन- पाती
असीम नभ
खींचता हैं इनको
निज बाहों में
देता है प्रतिपल
मुक्त आधार
बिना अनुबंध ही
जीवन-जय पथ ।