भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी धुँधला, कभी उजला, कभी रँगदार चुटकी में / प्रेम भारद्वाज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
बिगड़ता और बनता है यहाँ संसार चुटकी में
कभी तो ख़ार चुटकी में गले का हार चुटकी में

जुड़ें टूटें ख़ुशामद में कई सुर-तार चुटकी में
अभी है राग दीपक तो अभी मल्हार चुटकी में

समझ दुनिया का आए ख़ाक़ कारोबार चुटकी में
बदल जाए न जाने कब कहाँ व्यवहार चुटकी में

हिकारत की जड़ें तो जम चुकीं गहरे में होती हैं
भले बाहर से लगता है हुआ तकरार चुटकी में

बना डाले यहाँ इक दूसरे की जान के दुश्मन
सियासत की ज़रूरत ने हैं पक्के यार चुटकी में

यक़ीनन ख़ास ही कोई शराफ़त का मुख़ालिफ़ था
हुई नीलाम वो जैसे सरे- बाज़ार चुटकी में

सफल इन्सान ही होगा मियाँ उस्ताद गिरगिट का
कभी धुँधला, कभी उजला, कभी रँगदार चुटकी में

नई तख़लीक़ होनी थी यहाँ जिसके भरोसे पर
वही औज़ार उसका हो गया हथियार चुटकी में

तवक़्क़ो तो है भक्तों से चढ़ाएँ झोलियाँ भर कर
बड़ी तक़लीफ़ से बाबा करें प्रतिकार चुटकी में

किसी को बुद्ध होने के लिए इक उम्र लगती है
नहीं है छूटता यूँ ही कभी घर-बार चुटकी में

मुसल्सल इक तरद्दुद है कहानी ज़िन्दगानी की
कभी होता नहीं देखा ये बेड़ा पार चुटकी में

गया योद्धा, मरा हाथी शिनाख़त जब नहीं होती
महाभारत में बनती जीत भी है हार चुटकी में

ख़बरची पर भरोसा एहतियातन हो ज़माने का
हवा का रुख़ बदल देता है जब अख़बार चुटकी में

ज़बाँ तो बात को कहने की हिम्मत कर नहीं पाई
नयन नीचे हुए बस हो गया इज़हार चुटकी में

बड़ी बेताबियाँ देकर बढ़ाई प्रेम की ज्वाला
कभी इक़रार चुटकी में कभी इन्कार चुटकी में