भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी नहीं सोचा था / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी नहीं सोचा था
होगा इतना मुश्किल
लड़ना खुद से।
खुद को
खुद ही मार गिराना
और चिल्लाना
दावे करना
या खुद को अहसास दिलाना
जिन्दा होने का।