भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी पिला दो / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

7
बाहों में तुम
लिपटी लता- जैसे
होंठों से पीते
मादक अधरों को
थम गया समय।
8
बन्धन कसे
प्राण भी अकुलाए
नदी सिन्धु में
मिले और खो जाए
कोई भी ढूँढ न पाए।
9
साथी है कौन
अम्बर भी है मौन
एकाकी पथ
दूर तक सन्नाटा
किसने दुख बाँटा ।
10
भोर के माथे
जड़ दिया चुम्बन
खिला आँगन
आँख भरके देखा-
तुम्हीं तो सामने थे
11
कभी पिला दो
अधर सोमरस
मुझे जिलादो,
आलिंगन कसके
सूने उर बसना।
12
घना अँधेरा
घिरा है चारों ओर
तेरी मुस्कान
मेरा नूतन भोर
तुम्हीं हो और -छोर।
13
कर दूँ तुम्हें
मैं सुख समर्पित
अपने दुःख
मुझे सब दे देना
वही आनन्द मेरा।