भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कम / स्नेहमयी चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब मैं कुर्सी, मेज़, आइरन, टोस्टर,

फ्रिज

टी.वी. आदि चीज़ों

और वैसे व्यक्तियों के बीच रहती हूँ

तो जड़ हो जाती हूँ।


जब मैं पेड़ों, पौधों, पत्तियों, फूलों, पक्षियों,

नदियों, जंगलों, खेतों, खलिहानों,

खुले आसमान, पहाड़, दरिया

जैसी चीज़ों और लोगों के बीच होती हूँ

तो जी उठती हूँ।


मेरे पास जड़ होते जाने के अधिक अवसर हैं,

जीने के कम।