भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करक / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक ने कहा —
आकाश

दूसरा
प्रत्याशित रूप से
पाताल कहेगा ही

आँधी से उड़कर
 गिर पड़ा हूँ
तुम्हारी गोरी-गोरी गोद में

पता है
उस गोद में निहित है
पूरा जगत

मुझे आश्रय दो,
अपने पास रखो ।

आँधी से पीड़ित काक समझकर
लौटा मत देना आँधी को ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी