भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करै तो कोई कांई करै भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करै तो कोई कांई करै भायला
आ सदी मिजळी मरै भायला

हया-दया कीं कोनी अठै देख लै
सीधा-छाती पर पग धरै भायला

तूं राजी रह म्हांनै जग सूं कांईं
थारै बिना कोनी सरै भायला

ई हवा रो कोनी पतियारो अबै
सांस लेवता ई डरै भायला

सांमै आयां ई पार का बीं पार
अबै ऐ पग पाछा क्यूं धरै भायला