भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

करोगी तुम प्यार/ प्रदीप मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड़ पौधों से
करोगी तुम प्यार
वे विफल कर देंगे
प्रदूषण का षडयन्त्र

घर से
करोगी तुम प्यार
भूल कर अपने सारे दुःख
खुशहाल हो जाएगा घर

बच्चों से
करोगी तुम प्यार
वे भविष्य की भयावहता से
घबराएँगे नहीं

समन्दर से
करोगी तुम प्यार
मीठा लगने लगेगा उसका पानी

मुझसे
करोगी तुम प्यार
मैं फैलकर व्योम हो जाऊँगा ।