भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कर दूँ तुमको ‘शूट’ / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘ढेचू-ढेचू’ सुन गदहे की
शांति रहा जब ऊँट,
बोला गदहा- ‘गीत न भाया
या की गए तुम रूठ’?
कहा ऊँट ने- ‘नहीं चाहता
आज बोलना झूठ,
मित्र! गीत सुन, मन करता है
कर दूँ तुमको शूट’।

[शोध-दिशा, अप्रैल-जून 2006]