भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कलहान्तरिता / उत्पल बैनर्जी / मंदाक्रान्ता सेन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रसोई का काम ख़त्म हो गया
अब अनंत फ़ुर्सत है
वे ऑफ़िस चले गए हैं
ख़ाली-ख़ाली-सा घर पड़ा हुआ है
उतारी हुई कमीज़ पड़ी हुई है
एक जोड़ी नीली चप्पल
जो घर में पहनी जाती है,
गु़सलख़ाने में फैली हुई है जवाकुसुम की ख़ुशबू
और भी क्या-क्या पड़ा हुआ है!
चारों ओर भनभनाता हुआ ग़ुस्सा...
घर से निकलने से ठीक पहले
झगड़ा हुआ था, मानो उसी के दाग़
मानो, दंभ से भरी उस जय का
फटा हुआ परचम
पूरे घर में फहर रहा है

... ख़ाली-ख़ाली सा है घर...