भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कलियुग के चूहे / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूँछ कुतर डाली चूहों ने,
बिल्ली थी जब सोई;
तब मंदिर में जाकर वह
ईश्वर के आगे रोई।
ईश्वर बोले- ‘बचकर रह तू
कलियुग के चूहों से,
नहीं छोडते भोग-चढ़ावा
मेरा भी, मुँहझौंसे’।

[चमाचम, अप्रैल 1975]