भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कली के प्रति / रामावतार यादव 'शक्र'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़े सबेरे से उठ कलिके!
मना रही आनन्द अपार।
क्या पाया इस जग में आकर
तनिक बताओ तो सुकुमार!
रूप-रंग निज देख-देख कर
क्या तुमको अभिमान हुआ?
हरे भरे उपवन को लखकर
या तुम लुटा रही हो प्यार!

हँसना यहाँ मना है पगली, क्या न शूल ने बतलाया!
मोती ये झूठे ओसों के, क्या न किरण ने समझाया।