भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कवच / लक्ष्मीकान्त मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोजी भाँजल उनुकर खेल रहे
अनमनाह दिनन के सांझ में लौट के
आवां में पाकत बरतन
दुबकल रहसन आके नींनि का गोदी में

बगुलन के तिरछा पाँति
फँसत जात रहे अलोते मिटिकत
दरियाव का पास के झलांसन के बीच

गरूअन के खुरन के उठत धूल के बवंडर
कनपट्टियन में छेदत रहे आकाष
खरवरिया में नाचत बतास
सिटी बजावत फिरत रहे
बाँस के पतई से खेलत खानी

बिरहा अलापत हरवाहा
झबांन हो जा रहे पपड़ी परल खेतन के देखि
पुरबइया के झकोरा बहते
पसीजे लागत रहे गमछी से पसीना के गंध

चलल जात रहे चरवाहन के झुंड
चिरई के नाँव वाला गाँव का राह में
सुनसान परल रहे ऊ गाँव
अल्हारी का कवच में हरदमें लपटाइल