भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता कोश सूत्र-अंगिका उत्सव - सितम्बर 2018

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समय साहित्य सम्मेलन पुनसिया, बाँका, बिहार और कविता कोश के द्वारा चंगेरी, मिर्जापुर इण्टर स्तरीय विद्यालय के प्रांगण में अंगिका उत्सव का आयोजन दो सत्रों में हुआ। उद्घाटन / लोकार्पण / सम्मान सत्र की अध्यक्षता रामचन्द्र घोष ने की और संचालन अश्विनी प्रजावंशी ने किया। मुख्य अतिथि डा0 ताराचन्द्र खबारे, विशिष्ट अतिथि डा0 शंकर मोहन झा, डा0 श्री मोहन सिंह, आमोद कुमार मिश्र, अचल भारती आदि ने दीप प्रज्वलित करके कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

स्वागत भाषण के बाद विषय प्रवेश कराते हुए महामंत्री अनिरुद्ध प्रसाद विमल ने कहा कि लोकार्पण, पुस्तक चर्चा और सम्मान समारोह के बाद दूसरे सत्र में विराट कविसम्मेलन भी होगा।

मंचस्थ अतिथियों ने अनिरुद्ध प्रसाद विमल रचित "अपने हिस्से का महाभारत" और "स्मृति सुधा" , नरेश जनप्रिय रचित"किरण चिड़ैया" और "अनिल कुमार झा रचित" बिसहा तोरा बोलै ले' लागथौं " का लोकार्पण किया।

लोकार्पित पुस्तकों पर चर्चा करने वालों में आमोद कुमार मिश्र, डा0शंकर मोहन झा, ताराचंद खबारे, कैलाश झा किंकर, बी0एन0सत्यम, सुधीर कुमार प्रोग्रामर, सर्वेश्वर दत्त द्वारे, प्रदीप प्रभात, अचल भारती, कथाकार रंजन, प्रेम प्रभाकर, धीरेन्द्र छतहार वाला, दिनेश तपन आदि प्रमुख थे

सम्मान समारोह कार्यक्रम में माधवी चौधरी को प्रतिभा चतुर्वेदी स्मृति सम्मान, राहुल शिवाय को भवप्रीतानंद स्मृति सम्मान, प्रेम प्रभाकार को धर्मवीर भारती स्मृति सम्मान, धीरेन्द्र छतहारवाला को श्यामसुंदर घोष स्मृति सम्मान, नरेश जनप्रिय को बुद्धिनाथ झा कैरव स्मृति सम्मान, गौतम सुमन को जय प्रकाश स्मृति सम्मान, विद्यापति झा को राम शर्मा अनल स्मृति सम्मान, अामोद कुमार मिश्र को अनूपलाल मंडल स्मृति सम्मान, श्री मोहन सिंह को गुरेश मोहन घोष ' सरल स्मृति सम्मान, अनिल कुमार झा को आनंद शंकर माधवन स्मृति सम्मान, दयानंद जायसवाल को राजेन्द्र यादव स्मृति सम्मान, प्रदीप प्रभात को भुवनेश्वर सिंह भुवन स्मृति सम्मान, दिनेश तपन को डोमन साहु समीर स्मृति सम्मान, अशोक शुभदर्शी को परमानंद पाण्डेय स्मृति सम्मान, हीरा प्रसाद हरेन्द्र को नरेश पाण्डेय चकोर स्मृति सम्मान, कैलाश झा किंकर को महाकवि सुमन सूरो स्मृति सम्मान, सुधीर कुमार प्रोग्रामर को माहेश्वरी सिंह महेश स्मृति सम्मान, योगेंद्र केशरी को सत्यनारायण मेहता स्मृति सम्मान से सम्मानित किया गया। ध्यातव्य हो कि समारोह पूर्वक चयनित 18 कवियों / साहित्यकारों को अंगवस्त्र, पुष्पमाल, सम्मानपत्रादि से सम्मानित किया गया।

दूसरे सत्र कविसम्मेलन की अध्यक्षता हीरा प्रसाद हरेन्द्र ने की और मंचसंचालन सुधीर कुमार प्रोग्रामर ने किया। अपनी-अपनी कविताओं से कार्यक्रम में चार चाँद लगाने वालों में अनिल कुमार झा, दिनेश तपन, हीरा प्रसाद हरेन्द्र, कैलाश झा किंकर, राहुल शिवाय, अनिरुद्ध प्रसाद विमल, प्रदीप प्रभात, रथेन्द्र विष्णु नन्हें, भावानंद, सुधीर कुमार प्रोग्रामर, माधवी चौधरी, विद्यापति झा, ऋतुराज कश्यप, राजीव नयन तिवारी, अमरेन्द्र कुमार सुमन, नवीन कुमार संधि, अनन्त नारायण दूबे, अश्विनी प्रजावंशी, प्रोफेसर सुरेश बिन्द, निष्कर्ष कुमार, सर्वेश्वर दत्तद्वारे, प्रेम प्रभाकर, साथी सुरेश आदि प्रमुख थे।

धन्यवाद ज्ञापन करते हुए महामंत्री अनिरूद्ध प्रसाद विमल ने आगत कवियों, अतिथियों और पत्रकारों के प्रति आभार व्यक्त किया और अध्यक्ष के आदेश से कार्यक्रम के समापन की घोषणा की।