भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

कविता सुनाई पानी ने-2 / नंदकिशोर आचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या चीज़ें वही होती हैं
अंधेरों में
उजालों में होती हैं जैसी?

ख़ुद अपने से पूछो :
मैं क्या वही होता हूँ
तुम्हारे उजालों से जब
आता हूँ
ख़ुद के अंधेरों में !