भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता / मंगलेश डबराल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविता दिन-भर थकान जैसी थी

और रात में नींद की तरह

सुबह पूछती हुई :

क्या तुमने खाना खाया रात को ?

(रचनाकाल : 1978)