भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिनख रो अन्तस पिछाण
दरद, हरख अर हेत री रागळियां
      उजागर करण रो बूतो हुवै

दिन रै उजास में
साहूकारां रो भेख धारियां पूजीजता
रात रै अंधारै में
मिनख रो खून चूसणियां रा
        माळीपाना उतारण रो हिम्मत हुवै
       
अंधारै में गम्योड़ा
सुखां रा मारग सोध
जुगां तांई
मीलां सफीट देखण री
                     हूंस हुवै
तो लै
सावळ झाल आ कलम
संभाल ऐ पाना
भेळी कर मानखै री पीड़
अर लिख कविता !