भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कवि रूमी को पढ़ते हुए / अनातोली परपरा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अनातोली परपरा  » संग्रह: माँ की मीठी आवाज़
»  कवि रूमी को पढ़ते हुए

कवि ने कहा मुझ से

"अन्धकार है मूर्खता और प्रकाश बुद्धिमता"

कोई अन्त नहीं जिनका

लेकिन जब नहीं होती

जीवन में कविता

बुद्धिमता बदल जाती है मूर्खता में

और मूर्खता

ले लेती है जगह मूर्खता की

(रचनाकाल : 1990)