भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कश्मीर / कृष्ण कुमार यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भारतीय कश्मीर, आजाद कश्मीर
पर कश्मीरी अवाम कहीं नहीं

चंद मुट्ठी भर लोग
लाखों अवाम की ज़िन्दगी के
फ़ैसले का दावा करते हैं
पर कोई उस स्वर्ग से
कश्मीर की बात नहीं करता

एक कश्मीर को लेकर
खींची गयी नफ़रत की रेखाएँ
तुम सिर्फ़ कश्मीर को लेने की
बात क्यों करते हो
पूरा भारत ही क्यों नहीं
तुम्हारा हो सकता

अतीत की परछाईयों से क्या डरना
चाहे भारत पाक में जाए
या पाक भारत में आए
पर हम एक तो होंगे

फिर यह तो अवाम तय करेगा
कि शासकों का भविष्य क्या होगा ?